Sun. Apr 11th, 2021

Movie Review

Check out movie reviews of Bollywood: Latest Films Reviews

हैडिंग पढ़ कर चौंकिए मत, यह सच है। जी हां, एक फिल्मकार ने अपनी बनाई एक फिल्म के लिए यह अनोखा बिज़नेस मॉडल पेश किया है जिसमें वह दर्शकों को अपनी फिल्म मुफ्त में दिखा रहे हैं और यह गुज़ारिश कर रहे हैं कि अगर आपको यह फिल्म पसंद आए तो उन्हें थोड़े पैसे भेज दीजिए। थोड़े मतलब कुछ भी, दस, बीस, पचास रुपए, या जो भी आप चाहें। यहां बात हो रही है फिल्म ‘टोनी’ की। यह एक सायको सस्पैंस-थ्रिलर फिल्म है जिसके लेखक, निर्माता और निर्देशक हैं विपुल के. रावल। बतौर लेखक विपुल ने ‘इक़बाल’, ‘रुस्तम’, ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ जैसी फिल्में लिखी हैं। इसके बाद उन्होंने बहुत ही कम बजट, सिर्फ 75 लाख रुपए में ‘टोनी’ बना डाली जिसमें तमाम नए कलाकार लिए और यहां तक कि बहुत सारे नए तकनीशियन भी। फिल्म ठीक-ठाक बन गई लेकिन जैसा कि हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री में होता है, इसे रिलीज़ करने में उन्हें नाकों चने चबाने पड़ गए। किसी तरह से यह फिल्म नवंबर, 2019 में रिलीज़ हुई तो न इसे कायदे के थिएटर मिले, न शो और न ही सलीके से इसका प्रचार हो पाया, लिहाजा यह फिल्म पिट गई।... Read More
मुसहर-बिहार में समाज के हाशिये पर बैठी एक ऐसी जनजाति जिसे अछूत माना जाता है। घनघोर गरीबी में रहने को अभिशप्त ये लोग चूहा (मूषक) मार कर खाने के चलते ‘मुसहर’ कहे गए। इसी समाज की दसवीं में पढ़ रही बुधनी का ब्याह चमकू के बेटे सुगन के संग हो गया। फाकामस्ती में जी रहे इस परिवार के न कोई सपने और न ही उन्हें हासिल करने का कोई संघर्ष। लेकिन बुधनी ने पढ़ाई नहीं छोड़ी। दसवीं की परीक्षा में जिले में टॉप किया। जिलाधीश ने बुला कर ईनाम मांगने को कहा तो बोली-शौचालय बनवा दीजिए। लेकिन जल्द ही वह पति संग मजदूरी करने दिल्ली आ गई। मगर यहां भी वही हाल कि सब लोग रेल की पटरियों पर ही जाते।रंजन चौहान, कामाख्या नारायण सिंह और भास्कर विश्वनाथन की टीम ने फिल्म को कायदे से लिखा है। मुसहरों की जीवन-शैली और उनकी सोच को करीब से दिखाती है यह फिल्म। छोटे-छोटे संवादों और दृश्यों के ज़रिए इस ‘सूखे’ विषय में भी रोचकता बनाने की सफल कोशिश की गई है। बड़ा काम निर्देशक कामाख्या नारायण सिंह ने किया है जिन्होंने फिल्म को ‘फिल्म’ की बजाय सच्चाई के इतने करीब रखा है कि यह पर्दे पर चल रही सच्ची कहानी लगती है। हर सीन उन्होंने बेहद जानदार रखा है। उनके रिसर्च पर, उनके कल्पनाशीलता पर गर्व होता है।... Read More

You may have missed